India

कहानी एक बिहार के ऐसे युवक की, जिसने 21 के उम्र में लोगों के रोजगार के लिए खड़ी कर दी कंपनी

आज का जमाना काफी तेजी से बदल रहा है और इस बदलते जमाने में लोग भी अपने आपको बदलना चाहते हैं. आज के जमाने में लोग घर बैठे भी कई तरह के काम करके पैसे कमा रहे हैं और ऐसे लोगों को फ्रीलांसर के नाम से जाना जाता है. फ्रीलांस के माध्यम से तमाम लोग घर बैठे बड़ी-बड़ी कंपनियों का काम करते हैं. आज हम आपको बिहार के एक ऐसे युवक से मिलाने वाले हैं जिसने मात्र 21 साल के उम्र में लोगों की मदद के लिए एक कंपनी खड़ी कर दी और 400 से अधिक लोगों को रोजगार प्रदान किया है.

हम जिस शख्स की बात कर रहे हैं उस शख्स का नाम अंकित देव अर्पण है और यह लड़का बिहार के चंपारण का रहने वाला है. अंकित देव अर्पण अपनी स्नातक की पढ़ाई के लिए नोएडा आए थे और कॉलेज में पढ़ाई करते-करते इनके दिमाग में अपना खर्चा निकालने का आईडिया है. जिसके बाद यह भी फ्रीलांस राइटिंग करने लगे इस दौरान इन्हें कई तरह के ठगी का सामना करना पड़ा और तभी अंकित के दिमाग में एक आईडी आया और उन्होंने इस आइडिया को अपने दोस्त के साथ साझा किया. दरअसल, अंकित के दिमाग में यह आइडिया आया कि इनकी तरह और भी फ्रीलांस राइटर होंगे जिन्हें ठगी का शिकार होना पड़ता होगा क्यों ना हम एक ऐसे कम्युनिटी बना ले जहां पर ऐसी समस्याएं ना झेलना पड़े.

जब अंकित देव अर्पण ने अपने अपने दोस्त शनाया से इस बारे में बात की तो इनकी दोस्त ने इनकी मदद की और अंकित देव अर्पण ने एक नई कंपनी की शुरुआत कर दी और इस कंपनी का नाम रखा ‘द राइटर कम्युनिटी’, अंकित देव अर्पण की इस कंपनी के माध्यम से तमाम लोगों को काम मिलने लगा. अंकित दावा करते हैं कि इन्होंने अपनी कंपनी के मदत से 400 से ज्यादा लोगों को घर बैठे रोजगा दिया है. आज अंकित देव अर्पण की इस कंपनी के मदद से सैकड़ों बच्चे अपने पढ़ाई के साथ-साथ घर बैठे अपना खर्चा भी निकाल रहे हैं.

Back to top button