India

कभी कुत्तों से करती थी नफरत, आज 90 वर्ष की होने के बावजूद 4:30 बजे उठकर सैकड़ों कुत्तों के लिए बनाती है खाना

कुत्ते और मनुष्य के बीच एक गहरा लगाव शुरू से ही देखा गया है. इतना ही नहीं कई लोगों का तो यह भी मानना है कि मनुष्य के लिए सबसे ज्यादा वफादारी का काम कुत्ते ही करते हैं और यह बात कुछ हद तक सही भी मानी जाती हैं. हमारे आसपास कई लोग मौजूद हैं जो कुत्तों को देखकर अक्सर गुस्से में रहते हैं और जब भी कुत्ते उनके आसपास आते हैं तो वह उन्हें मारकर भगाने लगते हैं. लेकिन हमारे आसपास कुछ ऐसे भी लोग होते हैं जो अक्सर इन बेजुबानों को खाना खिलाने का काम करते हैं और इन्हीं लोगों में से एक लोग दादी कनक भी हैं. जी हां हम जिस महिला का जिक्र कर रहे हैं उनका नाम कनक है और यह 90 वर्ष की हो चुकी है बावजूद इसके यह सुबह 4:30 बजे उठकर सैकड़ों कुत्तों के लिए खाना बनाती हैं.

दादी कनक का वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी ज्यादा तेजी से वायरल हो रहा है. दरअसल, दादी कनक के इस वीडियो को इनकी पोती सना ने अपने अधिकारिक इंस्टाग्राम हैंडल से शेयर किया है और इस वीडियो को शेयर करते हुए सना ने दादी से जुड़े कई इंफॉर्मेशन भी साझा किया हैं. दरअसल, इस वीडियो को शेयर करते हुए सना ने कैप्शन में यह जानकारी दी है कि दादी बीमार थी और इनका ऑपरेशन हुआ था और डॉक्टरों ने इन्हें बेड रेस्ट पर रहने के लिए कहा था. बावजूद इसके दादी सुबह 4:30 बजे उठकर सैकड़ों कुत्ते के लिए खाना बनाती हैं और उन्हें खिलाने के लिए जाती हैं.

गौरतलब, करने वाली बात तो यह है कि कुछ सालों पहले दादी कुत्तों से बिल्कुल भी लगाव नहीं रखती थी. हालांकि, जब इनकी पोती सना ने एक कुत्ता घर पर लाया तो यह कुत्ता दादी को धीरे-धीरे पसंद आने लगा जिसके बाद दादी ने यह फैसला किया कि यह आवारा कुत्तों को खाना खिलाने का काम करेंगी. आपको बता दें कि दादी कनक और उनकी पोती मिलकर एक एनजीओ भी चलाते हैं और इस एनजीओ के तहत यह लोग आवारा कुत्तों को खाना खिलाने का काम करते हैं और साथ ही साथ उनको रहने के लिए एक शेल्टर में जगह भी दी जाती है.

Back to top button