India

एक छोटी सी घटना के वजह से नेशनल लेवल शूटर बन गया जानवरों का केयर टेकर, 200 से ज्यादा जानवरों का करते हैं देखभाल

धरती पर मौजूद हर व्यक्ति अपना जीवन सुधारना चाहता है और अपने जीवन में नई नई ऊंचाइयों को छूना चाहता है. इस धरती पर बहुत कम लोग ऐसे हैं जो दूसरों की मदद करना चाहते हैं और उन्हीं लोग में शामिल हैं 24 वर्ष के हेमंत, कहते हैं 20 से 30 वर्ष के बीच का उम्र अपना जीवन सुधारने का उम्र होता है और यही उम्र आपको फ्रीडम में जीने की इजाजत देता है. इसके बाद पारिवारिक जिम्मेदारियां घेर लेती हैं. लेकिन इस उम्र में हेमंत अपना जीवन नहीं बल्कि बेजुबान जानवरों का जीवन सुधारने का काम कर रहे हैं. हेमंत के पास कोई ऐसा शौक नहीं है जो साधारण व्यक्ति के पास होता है हेमंत बेजुबान जानवरों की सेवा करते हैं और उनके दर्द को मिटाने का काम करते हैं.

हेमंत मात्र 24 साल के हैं लेकिन यह सड़क पर पड़े बीमार और बेजुबान जानवरों की मदद करते हैं. जी हां हेमंत अपनी रेस्क्यू टीम के साथ इन जानवरों की देखभाल करते हैं. इतना ही नहीं जिस किसी जानवर को चोट लगा होता है उसका इलाज भी हेमंत करते हैं. हेमंत ने अपने केयर सेंटर को लगभग 1 एकड़ में बनवा रखा है और यहां पर 200 से ज्यादा जानवरों की देखभाल करते हैं. इतना ही नहीं यह इन जानवरों की सेवा में इतने ज्यादा व्यस्त हो जाते हैं कि अपने घर भी नहीं जा पाते हैं और महीने में एक या दो बार ही अपने घर जा पाते हैं. हेमंत ने अपने केयर सेंटर में एक एंबुलेंस भी रखा है जिसकी मदद से यह जानवरों की रेस्क्यू करते हैं. आपको यहां यह भी बता दे कि हेमंत नेशनल लेवल के शूटर भी हैं.

बता दें कि जानवरों की देखभाल करने में काफी सारे पैसे खर्च होते हैं ऐसे में हेमंत की मदद इनके परिवार वाले करते हैं. जी हां हेमंत की मदद इनके पिता के साथ-साथ बैंक में काम करने वाले इनके भाई भी मदद करते हैं. हेमंत ने जानवरों की मदद करने का सिलसिला लगभग 8 साल पहले शुरू किया था जब एक कुत्ते में कीड़े पड़ गए थे. तब हेमंत ने उस कुत्ते को बचाने की बहुत कोशिश की लेकिन वह कुत्ता नहीं बच सका जिसके बाद हेमंत ने जानवरों की देखभाल करने का फैसला किया और तभी से हेमंत लगातार जानवरों की देखभाल करते हुए नजर आ रहे हैं.

Back to top button