India

मां ने दूसरों के घरों में बर्तन धुले, बेटे ने हासिल की 35 लाख की स्कॉलरशिप

इंसान अगर सच्चे दिल से कुछ करने की ठान ले तो वह अपनी मेहनत और हौसले के दम पर कुछ भी हासिल कर सकता है. जिंदगी में सफलता हासिल करने के लिए जुनून और जज्बे की जरूरत होती है. अगर आपके पास ज्यादा संसाधन मौजूद नहीं है लेकिन आपकी इच्छा शक्ति मजबूत है तो आपके लिए सफलता खुद सफर तय करती है. इस आर्टिकल में एक लड़के के बारे में बताने वाले है. इस लड़के की मां अलग-अलग घरों में जाकर बर्तन साफ करती है लेकिन अब उसके बेटे ने मेहनत के दम पर कारनामा रच दिया है. इनके बेटे को 35 लाख रुपए की स्कॉलरशिप मिली है.

बता दें, पटना की झोपड़पट्टी इलाके में रहने वाले अमरजीत ने अपने टैलेंट और किए गए संघर्ष के दम पर बेंगलुरु की अटारी यूनिवर्सिटी से 35 लाख रुपए की स्कॉलरशिप हासिल की है. अब इस स्कॉलरशिप के दम पर अमरजीत इस यूनिवर्सिटी में इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर सकेंगे और अपने सपनों को साकार कर सकेंगे. बता दें, अमरजीत के लिए वाकई ये बहुत बड़ा सपना है इनकी माता जी दूसरे घरों में जाकर बर्तन धोने का काम करती हैं. इसके अलावा मजदूरी करती हैं और उन्होंने अपने बेटे को इसी के दम पर पढ़ाया है लेकिन अब उनके बेटे ने कारनामा रचकर दिखा दिया है कि उनकी मां की मेहनत बेकार नहीं जा रही है.

अमरजीत बताते हैं उनकी सफलता में उनकी मां का तो हाथ है ही उनकी मां ने उन्हें पढ़ाने के लिए खूब संघर्ष किया है. वहीं उनके शिक्षकों का भी खूब योगदान रहा है. एक शिक्षक की बदौलत ही वह इंग्लिश मीडियम स्कूल में पढ़ पाए थे. जहां से उनकी शिक्षा पूरी हुई इसके बाद उन्होंने खूब पढ़ाई की और स्कॉलरशिप पाने के लिए टेस्ट दिया. जिस टेस्ट में उन्हें सफलता मिल गई है. अब उन्हें 35 लाख की स्कॉलरशिप मिली है. जिसके दम पर वह अपनी इंजीनियरिंग की डिग्री ले सकेंगे और अपने परिवार के लिए मेहनत कर सकेंगे. बता दें, अमरजीत की कहानी तमाम लोगों के लिए प्रेरणा स्रोत है.

Back to top button