India

गधों की बुरी हालत देखकर शुरू किया गधे पालन का बिजनस, लोगों ने उड़ाया मजाक, आज दूध बेचकर कमा रहे हैं लाखों रुपए

कहते हैं इस धरती पर सबसे ज्यादा मेहनती जानवर कोई है तो वह जानवर कोई और नहीं बल्कि गधा है. लेकिन गधा का लोग अक्सर मजाक उड़ाते रहते हैं. यहां तक कि अगर कोई इंसान ठीक से काम नहीं करता है तो लोग उसे गधा बोल देते हैं. दरअसल गधा बड़े शांत स्वभाव के जानवर होते हैं और काफी ज्यादा मेहनत से जुड़ा काम करते हैं. हालांकि लोग ऐसे जानवरों का मजाक उड़ाते रहते हैं.

हमारे देश में गधों की हालत क्या है आपको तो पता ही होगा. पहले पहले गधों का उपयोग धोबी किया करते थे लेकिन बाद में आधुनिक मशीनों के आने की वजह से धोबियों ने गधों का इस्तेमाल करना छोड़ दिया. जिसके बाद गधों की स्थिति लगातार खराब होने लगी. जिसके बाद कर्नाटक के श्रीनिवास गौड़ा ने गधों के लिए एक नई फॉर्म खोल दी है. पहले लोग श्रीनिवास गौड़ा का मजाक उड़ाते थे लेकिन अब श्रीनिवास इन गधों की मदद से लाखों रुपए कमा रहे हैं.

B.A. ग्रेजुएट श्रीनिवास गौड़ा पहले नौकरी करते थे. हालांकि, महामारी के दौरान इन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और बकरी के फॉर्म की शुरुआत की जिसके बाद धीरे-धीरे श्रीनिवास को यह एहसास हुआ कि हमारे देश में गधों की हालत काफी खराब है और श्रीनिवास से गधों की हालत देखी नहीं गई. जिसके बाद श्रीनिवास ने अपने फॉर्म को बड़ा किया और गधों को भी संरक्षण देने का काम शुरू कर दिया. जब श्रीनिवास ने गधे पालन का काम किया तो इनके आसपास के लोग इनका मजाक उड़ाने लगे लेकिन अब श्रीनिवास गौड़ा इन गधों की मदद से लाखों रुपया कमा रहे हैं.

मीडिया रिपोर्ट की मानें तो श्रीनिवास इन गधों की देखभाल करते हैं और उनसे मिलने वाले दूधों को सप्लाई करके काफी सारे पैसे कमाते हैं. श्रीनिवास लाखों रुपए इन गधों के मदद से कमा रहे हैं. श्रीनिवास गौड़ा का कहना है कि अभी हाल ही में उन्हें 17 लाख रुपए का गधी में दूध का आर्डर मिला है. इतना ही नहीं श्रीनिवास गौड़ा का कहना है कि गधे का पिसाब भी काफी महंगा बिकता है. श्रीनिवास ने बताया कि गधों का पिसाब लगभग 500 रुपया लीटर बिकता है.

Back to top button