IndiaUncategorized

देश का एक ऐसा स्कूल जो साल के 365 दिन खुलता है, शिक्षकों ने नहीं ली 20 सालों से कोई छुट्टी

हमारे देश में तमाम तरह के स्कूल हैं और इन स्कूलों की तमाम तरह की खासियत होती हैं. लेकिन आज हम आपको इस लेख के जरिए एक ऐसे स्कूल के बारे में बताने वाले हैं जिसके बारे में सुनने के बाद से आप चौक जाएंगे. दरअसल, यह स्कूल साल के 365 दिन तक खुली रहती है. इस स्कूल के शिक्षकों का दावा है कि यह स्कूल पिछले 20 सालों से 1 दिन के लिए भी बंद नहीं रहा है. आखिर ये स्कूल कहा है जो लगातार 20 सालों से बिना एक भी दिन बंद हुए चल रहा है आगे आपको इस लेख के जरिए बताने वाले हैं.

इस लेख में हम जिस स्कूल का जिक्र कर रहे हैं वह स्कूल महाराष्ट्र से 60 किलोमीटर दूर एक छोटे से गांव में स्थित है. यह स्कूल जिस गांव में स्थित है उस गांव का नाम करदेलवाड़ी है. यह एक प्राथमिक विद्यालय है. इस स्कूल की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह स्कूल साल में 365 दिन चलता है और यहां के शिक्षकों का दावा है कि इस स्कूल को 20 सालों से 1 दिन के लिए भी बंद नहीं किया गया है. ऐसे में इस स्कूल के मैनेजमेंट को समझने के लिए एनसीईआरटी की टीम दो बार इस स्कूल का दौरा कर चुकी हैं.

आपको बता दें कि इस स्कूल को शिक्षक दंपति दत्तात्रेय और बेबीनंदा सकात मिलकर चलाते हैं. बता दें कि साल 2001 में इन दोनों शिक्षकों की जॉइनिंग इस स्कूल में हुई थी और अपने जॉइनिंग के बाद से इन दोनों शिक्षकों ने कभी भी कोई छुट्टी नहीं ली. यह दोनों शिक्षक लगातार 20 सालों से इस स्कूल में बच्चों को पढ़ाने का काम कर रहे हैं और यही कारण है कि कभी भी छुट्टी नहीं लेने की वजह से सरकार ने कई बार इन दोनों शिक्षकों को सम्मानित किया है. यह दोनों शिक्षक मिलकर लगातार 20 वर्षों से शिक्षा के स्तर को सुधारने का प्रयास कर रहे हैं यही कारण है कि आसपास के लोग भी इन दोनों शिक्षकों की जमकर तारीफ करते हैं.

आपके बता दें कि यहां के शिक्षकों का कहना है कि जब साल 21 में इनकी जॉइनिंग हुई थी तो इस स्कूल का हालत काफी ज्यादा जर्जर था. इस स्कूल में सिर्फ चार कमरे थे और यहां पर बच्चों की संख्या बहुत ज्यादा कम थी. हालांकि, इन्होंने इस स्कूल के सीरत को बदलने का फैसला किया और आखिरकार इन शिक्षकों ने इस स्कूल के सीरत को बदल कर रख दिया है. इस स्कूल में काफी ज्यादा बच्चे पढ़ने आते हैं तथा इस स्कूल में एलईडी स्क्रीन, एयर कंडीशन और कंप्यूटर जैसी चीजों की भी व्यवस्था कराई गई है.

Back to top button