IndiaInternational

एक शिक्षक जिसने हवेली राम गांधी जैसे देसी ब्रांड को बना दिया हैवेल्स जैसा टॉप ब्रांड

हैवेल्स बाजार में उपलब्ध इलेक्ट्रॉनिक सामानों का एक ब्रांड है और यह काफी ज्यादा चर्चित ब्रांड माना जाता है. इसका नाम सुनकर लोग को लगता है कि यह एक विदेशी ब्रांड है लेकिन यह बात बहुत कम लोगों को पता है कि हैवेल्स एक शुद्ध देसी ब्रांड है. बता दे कि हैवेल्स पहले हवेली राम गांधी हुआ करता था. हालांकि, जब इस कंपनी की कमान कीमत राय गुप्ता के हाथ में आई तब उन्होंने इस कंपनी की नासिर्फ नाम में बदलाव किया बल्कि इस कंपनी को ही पूरी तरह बदल कर रख दिया.

कीमत राय गुप्ता का जन्म सन 1937 में हुआ था. इनका बचपन काफी गरीबी में बीता था. हालांकि, यह बचपन से ही कुछ बड़ा करना चाहते थे और यही कारण है कि इन्होंने मन लगाकर पढ़ाई करनी शुरू कर दी और बड़े होकर इन्होंने बच्चों को पढ़ाना शुरू कर दिया और एक शिक्षक बन गए. हालांकि, यह शुरू से ही कुछ नया करना चाहते थे.

यही कारण है कि यह अपने घर से 10000 लेकर साल 1958 में दिल्ली चले आए. दिल्ली आकर इन्होंने अपने एक रिश्तेदार की मदद से इलेक्ट्रॉनिक समानों के रिपेयरिंग का काम सिखा. इसके बाद यह हवेली राम गांधी जो कि एक देसी ब्रांड हुआ करता था उसके डिस्ट्रीब्यूटर बन गए. बाद में इन्हें पता लगा कि यह कंपनी घाटे में जा रही है और इसके मालिक इस कंपनी को बेचना चाह रहे हैं जिसके बाद इन्होंने ठान लिया कि वह इस कंपनी को लेकर रहेंगे और फिर क्या था इन्होंने अपने दोस्तों यारों की मदद से कुल 7 लाख इकट्ठे किए और 7 लाख में इस कंपनी को अपने नाम कर लिया.

हवेली राम गांधी कंपनी को अपने नाम करने के बाद से कीमत राय गुप्ता ने इस कंपनी का नाम सबसे पहले बदला. जी हां उन्होंने इस कंपनी का नाम हैवेल्स कर दिया और फिर से इसकी ब्रांडिंग शुरू की और धीरे-धीरे कई तरह के बदलाव किए. शुरू में तो इनका प्रोडक्ट उतना ज्यादा लोगों को पसंद नहीं आता था लेकिन उन्होंने कभी हार नहीं मानी और लगातार मेहनत करते गए और एक समय ऐसा आया जब इनकी कंपनी दुनिया की सबसे टॉप ब्रांड की लिस्ट में शामिल हो गई. आपको बता दें कि कीमत राय गुप्ता भले ही आज इस दुनिया में नहीं है लेकिन आज हर कोई इनकी तारीफ करता है क्योंकि एक देसी ब्रांड को उन्होंने पूरी दुनिया में प्रचलित कर दिया. आज हैवेल्स कंपनी का साम्राज्य अरबों रुपए का है.

Back to top button