India

फुल टाइम नौकरी छोड़ शुरू की हाइड्रोपोनिक खेती, सालाना कमाते हैं 70 लाख

पहले के समय पर खेती पारंपरिक तरीके से की जाती थी लेकिन जैसे-जैसे टेक्नोलॉजी का विस्तार हो रहा है वैसे-वैसे किसान अब खेती में टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करने लगे हैं और इसके दम पर वह अच्छा खासा मुनाफा भी कमाते हैं. इस आर्टिकल में हम आपको एक ऐसे किसान के बारे में बताने वाले हैं. जो हाइड्रोपोनिक खेती के जरिए अच्छी खासी कमाई कर रहा है और दिलचस्प बात यह है इस किसान ने इस खेती को करने के लिए किसी जमीन का नहीं बल्कि अपनी बिल्डिंग का सहारा लिया है. इसने अपनी बिल्डिंग की दीवारों पर ही बेल लगा दिए हैं.

जिस किसान के बारे में हम आपसे बात कर रहे हैं. वह बरेली उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं. नाम रामवीर सिंह है. रामवीर सिंह बताते हैं साल 2009 के आसपास कीटनाशक दवाइयों से तैयार करी गई सब्जियों से उनके चाचा की मृत्यु हो गई थी. जिसके बाद वह काफी निराश हो गए थे और उसी समय उन्होंने सोच लिया था कि वह ऐसी तकनीक के जरिए खेती करेंगे.

जिसमें वह कीटनाशक दवाइयों का इस्तेमाल ना करें और लोगों को अच्छी शुद्ध सब्जियाँ मिल सके, इसी मोटिवेशन को देखते हुए रामवीर सिंह फुल टाइम पत्रकारिता के पेशे को छोड़कर इस काम में जुट गए और उसी समय इन्होंने हाइड्रोपोनिक खेती करना शुरू कर दिया था. खेती के साथ-साथ उस समय यह फ्रीलांस भी करते थे. जिस दिन का खर्चा पानी मैनेज होता था.

रामवीर सिंह के मुताबिक एक बार वह अपने प्रोजेक्ट के सिलसिले में दुबई गए थे और वहां पर इन्हें हाइड्रोपोनिक खेती करने का तरीका मिला था और तभी से इन्होंने हाइड्रोपोनिक खेती करना शुरू कर दिया. इन्होंने अपने तीन मंजिला घर को खेती के अंबार में बदल दिया और दीवारों पर सब्जियों की बेल लगाना शुरू कर दिया. धीरे-धीरे बेलों पर सब्जियां आनी शुरू हो गई और इन्होंने सब्जियों के दम पर ही अच्छा खासा मुनाफा जनरेट करना शुरू कर दिया. बता दें, साल 2017-18 के आसपास रामवीर सिंह दुबई गए थे.

Back to top button