India

कभी बेचते थे किताबें, मोती की खेती ने बदल दी जिंदगी, अब सालाना कमाते हैं 5 लाख रुपया

हमारा देश कृषि प्रधान देश माना जाता है लेकिन फिलहाल के समय में लोग खेती से दूर भागने का प्रयास कर रहे हैं. लोगों का मानना है कि खेती में बिल्कुल भी फायदा नहीं है. लेकिन कई लोगों ने लोगों के इस गलत अवधारणा को दूर किया हैं और इन्हीं लोगों में से एक नाम राजस्थान के रहने वाले राजेंद्र कुमार गरवा का है. दरअसल, राजेंद्र कुमार गरवा पहले किताबें बेचने का काम करते थे और यह काम उन्हें अच्छा नहीं लगता था क्योंकि इस काम में उनकी उतनी ज्यादा कमाई नहीं होती थी. जिसके बाद उन्होंने कुछ नया करने का फैसला किया और गूगल पर इसके बारे में सर्च करने लगे जिसके बाद उन्हें मोती की खेती के बारे में पता चला.

राजस्थान के छोटे से गांव के रहने वाले राजेंद्र कुमार गरवा ने जब गूगल पर मोती की खेती के बारे में पता किया तभी से यह मोती की खेती करने के बारे में सोचने लगे और उसके बाद इन्होंने फैसला किया कि यह अपने घर के छत पर इसकी खेती करेंगे और इसके बाद इन्होंने CIFA से मोती की खेती करने की ट्रेनिंग ली और इसके बाद अपने छत पर मोती की खेती करने की शुरुआत कर दी. राजेंद्र कुमार गरवा ने मात्र 30 से 35 हजार खर्च करके मोती की खेती को अपने छत पर करना शुरू किया.

गौरतलब, करने वाली बात तो यह है कि जब राजेंद्र कुमार गरवा ने मोती की खेती करने का फैसला किया तब लोग इनका मजाक उड़ाते थे. इतना ही नहीं इनके घर वालों ने भी इनका साथ नहीं दिया और जब यह अपने छत पर मोती का खेती करते थे तो उनके परिवार वाले कहते थे कि पागल हो गए हो क्या लेकिन इन्होंने किसी की भी बात नहीं सुनी और यह अपना काम करते गए और आज राजेंद्र ने अपने सफलता से सबको जवाब दे दिया है. आपको बता दें कि राजेंद्र कुमार गरवा मोती की खेती की मदद से सालाना 5 लाख से भी ज्यादा की कमाई कर रहे हैं. राजेंद्र का कहना है कि छोटी सी जगह में मैं आराम से 5 लाख की कमाई कर लेता हूं यही कारण है कि मैं जल्द ही बड़े जगह पर मोती की खेती करने वाला हूँ.

Back to top button