India

कोच्चि की यह लड़की रविवार के दिन चलाती है बस, भारी वाहनों को लेकर बचपन से ही है दीवानगी

जमाना पहले से काफी ज्यादा बदल चुका है. पहले महिलाएं सिर्फ घर की देखभाल करती थी लेकिन अब महिलाएं पुरुषों के साथ कदम दर कदम मिलाकर चल रही हैं और कई क्षेत्र में तो महिलाएं पुरुषों को पीछे भी कर चुकी हैं. महिलाओं को जब भी हम कोई गाड़ी चलाते हुए देखते हैं तो हैरान हो जाते हैं लेकिन सोचिए अगर कोई महिला बस चला रही होगी तो उसे देखकर लोग कैसा फील कर रहे होंगे. जी हां कोच्चि की 21 वर्षीय लड़की को बड़ी गाड़ियों को चलाने का बहुत बड़ा शौक है. ऐसे में यह लड़की अपने खाली समय में बड़ी गाड़ीयां चलाती है और तो और रविवार के दिन यह बस भी चलाती है.

दरअसल, हम इस लेख में जिस लड़की के बारे में बात कर रहे हैं वह एर्नाकुलम लॉ कॉलेज से लॉ की पढ़ाई कर रही है. इस लड़की का नाम मैरी अंसालेन है और इन्हें बचपन से ही बड़ी गाड़ियों का शौक है. बता दें कि जब मैरी 15 साल की थी तब इन्होंने अपने पिता का बुलेट चलाना सीख लिया था और यह देखकर आसपास के लोग हैरान हो जाते थे. हालांकि, जब मैरी 21 साल की हो गई तब इनके अंदर बस और ट्रक जैसे गाड़ीयां को चलाने का शौक पैदा हो गया. जिसके बाद इन्होंने अपने छुट्टी वाले दिन फ्री में बस चलाने का फैसला किया और अब यह प्रत्येक रविवार को फ्री में बस चलाने का काम करती हैं. इतना ही नहीं यह जब भी खाली होती हैं तभी भी फ्री में बस चलाने का काम करती हैं.

मैरी बताती हैं कि जब यह नई ड्राइवर थी तो लोग इन्हें देखकर डर जाते थे. लोगों को लगता था कि यह महिला है तो कहीं बस ठोक ना दे. लेकिन धीरे-धीरे मैरी पर लोगों का विश्वास जम गया और हर रविवार को मैरी को बस चलाता देख लोग मैरी के साथ भी सहज हो गए और अब लोग मैरी के साथ काफी ज्यादा आरामदायक यात्रा का अनुभव करते हैं.

इतना ही नहीं आसपास के लोग भी मैरी की जमकर तारीफ करते हैं. आपको बता दें कि बस चलाने के इस शौक को पूरा करने के लिए मैरी के परिवार वालों ने भी इनका खूब ज्यादा समर्थन किया और तो और इनके आज पड़ोसियों ने भी इनकी समर्थन की और यही कारण है कि मैरी अपने पढ़ाई के साथ-साथ अपने शौक को भी पूरा कर पा रही हैं और साथ ही साथ देश में एक सकारात्मक मैसेज भी दे रही हैं कि लड़कियां हर एक काम कर सकती हैं.

Back to top button