India

दहेज की वजह से टूटी शादी, गांव में रहकर की मेहनत बन गई आईआरएस ऑफीसर

आगे बढ़ने के लिए दो चीजों की जरूरत होती है. जिसमें से पहली दृढ़ इच्छा शक्ति और दूसरा हमारा हौसला होता है. अगर यह दोनों चीजें हमारे अंदर कूट-कूट कर भरी हुई है तो हम दुनिया में कुछ भी कर सकते हैं. हमारे लिए सब कुछ आसान लगता है. जी हां, यह लाइनें एकदम सटीक बैठती हैं. यूपीएससी 2013 बैच की आईआरएस ऑफिसर कोमल गणात्रा के ऊपर. जिन्होंने तमाम परिस्थितियों से जूझते हुए इस परीक्षा को पास किया था और आईआरएस बनने तक की यात्रा तय की थी. भले ही यह आईआरएस ऑफीसर बन गई लेकिन इनकी कहानी आज भी लोगों के लिए प्रेरणादायक है.

गुजरात के अमरेली में साल 1982 में जन्मी कोमल गणात्रा की शुरुआती पढ़ाई गुजराती मीडियम से हुई थी इसके बाद उन्होंने स्नातक की पढ़ाई के लिए अलग-अलग लैंग्वेज में पढ़ाई की थी और फिर इन्होंने यूपीएससी की तैयारी करने का प्लान बनाया लेकिन 26 वर्ष की उम्र में इनके सपने बिखरने लगे थे क्योंकि इनकी एक एनआरआई के साथ शादी फिक्स कर दी गई थी. साल 2008 में कोमल गणात्रा ने न्यूजीलैंड के एनआरआई से शादी की थी लेकिन इनकी यह शादी ज्यादा समय तक नहीं टिक पाई इसकी वजह रही कि उस लड़के ने दहेज के लिए इन्हें प्रताड़ित करना शुरू कर दिया था. जिसके बाद उन्हें उससे अलग होने का फैसला लेना पड़ा.

कोमल गणात्रा में साल 2018 में एनआरआई के साथ शादी की थी लेकिन इनकी ये शादी महज 15 दिनों तक ही टिक पाई और 15 दिनों बाद ही यह दोनों एक दूसरे से अलग हो गए. लड़के ने इनसे दहेज की डिमांड करना शुरू कर दिया और इन्हें प्रताड़ित करना शुरू कर दिया ऐसे में कोमल की स्थिति काफी खराब हो गई थी और उनका परिवार वाले भी इन्हें इस स्थिति में देखकर काफी निराश था, लेकिन इन्होंने जैसे तैसे कर कर परिस्थितियों को अपना हथियार बनाया और अपने घर लौट आई और यहां पर इन्होंने आगे संघर्ष की राह पर चलने का फैसला कर लिया.

कहना गलत नहीं होगा कोमल गणात्रा की इच्छा शक्ति और हौसला बेहद मजबूत है. यही वजह रही उन्होंने साल 2013 में यूपीएससी की परीक्षा को पास कर लिया था. इन्हें इस परीक्षा में ज्यादा अच्छी रैंक तो नहीं मिली थी लेकिन इतनी रैंक मिल गई थी जिसके दम पर इन्हें आईआरएस का पद आसानी से मिल सकता था और उन्होंने यह पद ले भी लिया था, वर्तमान समय में यह आईआरएस ऑफीसर के तौर पर देश की सेवा कर रही हैं और इनकी प्रेरणादायक कहानी तमाम लोगों के लिए प्रेरणा का स्रोत है.

Back to top button