India

UPSC की तैयारी के लिए 100 किलोमीटर दूर जाते थे बच्चें, BDO ने गांव में ही बनवा दिया मुफ्त कोचिंग सेंटर

आज के जमाने में हर कोई अपने बारे में सबसे पहले सोचता है यू कहे तो सिर्फ अपने बारे में ही सोचता है. लेकिन आज भी समाज में बहुत ऐसे लोग हैं जो खुद के अलावा दूसरों के भी जरूरत को पूरा करने का काम करते हैं और उन्हीं लोगों के वजह से हमारे समाज में काफी ज्यादा बदलाव देखने को मिलता हैं. ऐसे लोग हमारे समाज के लिए गौरव का विषय माने जाते हैं और इन्हीं लोगों में से एक खंड विकास अधिकारी मिहिर कर्माकर हैं.

बंगाल के अलीपुरद्वार के खे-कुमारग्राम के रहने वाले हैं. यह पश्चिम बंगाल सिविल सर्विस साल 2016 बैच के ऑफिसर हैं. दरअसल, इन दिनों इनकी चर्चा पूरे देश में हो रही है क्योंकि इन्होंने गरीब बच्चों को फ्री में सिविल सर्विस की तैयारी कराने के लिए दो कोचिंग संस्था खोली है. और इस कोचिंग संस्थान पर लगभग डेढ़ सौ बच्चों को फ्री में यूपीएससी की तैयारी कराई जाती है.

आपको बता दें कि मिहिर जिस ब्लॉक में तैनात किए गए हैं वहां पर ज्यादातर एससी एसटी कैटेगरी के छात्र रहते हैं और यह लगभग 100 किलोमीटर दूर जाकर यूपीएससी की तैयारी करते थे. हालांकि, पैसों की कमी के वजह से ज्यादातर बच्चे इतनी दूर के ट्रैवल करने में असमर्थ थे. ऐसे में यग पढ़ाई नहीं कर पा रहे थे.

हालांकि, जब इस बात का पता मिहिर को लगा तब उन्होंने फ्री में यूपीएससी की तैयारी कराने के लिए दो कोचिंग संस्थाएं खोल दी और अब लगभग डेढ़ सौ बच्चों को इस फ्री कोचिंग सेंटर के माध्यम से यूपीएससी की परीक्षा पास कराने के लिए पढ़ाई करवा रहे हैं. मिहिर गरीब बच्चों के लिए एक उम्मीद के रूप में उभरे हैं इतना ही नहीं इस बात को मिहिर ने सोशल मीडिया के जरिए दोस्तों के साथ शेयर किया था जिसके बाद कई यूपीएससी पास किए हुए लोगों ने भी इस मुहिम में इनका साथ देना शुरू कर दिया.

Back to top button